कल्पना के घोड़े, खा पकोड़े

नमस्कार, आशा है सब कुशल मंगल होगा। आप और आपका परिवार स्वस्थ रहे और राशन की कोई कमी न हो यही कामना करता हूँ। अब देखिये प्रभु, घर में पड़े पड़े अपनी तोंद पे चर्बी चढ़ाने का शौक तो हमे बचपन से ही था परन्तु इस बार तो अति ही हो गयी। तोंद के साथ …

लॉक डाउन

नमस्कार, जी हाँ फिर आ टपके, अब जाये तो जाये कहाँ वाली स्तिथि है। बाहर निकलो तो वायरस से ज्यादा पुलिस के डंडे का डर है साहब। वैसे हम तो बचपन से ही दब्बू किस्म के जीव है, लॉक डाउन न भी हो तो भी घर में ही पड़े मिलते है। परन्तु वो मित्र जो …

बुरा ना मानो …

बुरा ना मानो

नमस्कार, देखो मैं आ गया। जोमैटो वाले भैया से भी ज्यादा कातिलाना स्माइल ले आपके समुख। वैसे मुख थोड़ा दूर ही रखते है। क्युकी आज कल चारो ओर वो फैला हुआ है ना। समझ गए ना.. अरे वही जिसके आते ही सभी को खांसी वाली कॉलर ट्यून मिल गयी है एक दम मुफ्त। यकीन नहीं …

“द” से …

नमस्कार, तो भैया ऐसा है की बात शुरू करते है एक कहानी से। मूल रूप से यह कहानी ली गयी है बृहदरन्यका उपनिषद से। अरे नहीं नहीं हम कोई ज्ञानी पंडित नहीं है, न ही कभी किसी उपनिषद को हाथ लगाया। वो तो यूँ ही पड़ते पड़ते एक दिन यह किस्सा सामने आ गया और …

हिंदी दिवस

HINDI DIWAS

गणपति बाप्पा मोरया ! नमस्कार, गणपति बाप्पा के विसर्जन के बाद आप लम्बोदर को मिस कर रहे होंगे।इसीलिए हम अपनी तोंद उठा कर आपके सम्मुख प्रस्तुत है।खैर तो बात ये है की आज है हिंदी दिवस।आप सभी को बहुत बहुत शुभकामनाएँ। हमे भी नहीं पता था की आज का दिन निर्धारित है हिंदी के लिए।हम …

केम छो ?

नमस्कार, पता है !! पता है !! नहीं मरा नहीं था, न ही पुनर्जन्म ले कर आया हूँ,यही था, इसी धरती पर। बस कुछ लिखा नहीं। लिखने के लिए कुछ होता तो लिखता ना। वैसे भी हमारे जैसे कुम्भकरण के महा भक्त को लिखने के लिए प्रेरित करने वाली घटनाएं कम ही होती हैं आज …

दावत

नमस्कार, और जनाब कैसे है? उम्मीद है की सेहत दुरुस्त होगी। और अगर नहीं है तो कर लीजिये, अरे दौड़ लगाने की आवश्यकता नहीं है। बस लम्बोदर के सामने हाथ जोड़ कर अपने उदर अर्थात पेट की सलामती की दुआ मांग ले। आप भले ही सुबह सुबह सारी प्राण वायु खींच कर 8 प्रकार के …

कीकी

नमस्कार, लो जी वापस आ गए हम। अब तो आप को भी आदत हो गयी होगी। अचम्भा नहीं होता होगा के आज अचानक यह कहा से आ टपका। हम तो पूरी कोशिश करते है की समय से पोस्ट लिखते रहें परन्तु क्या करे इस कम्बख्त आलस का। जैसे ही सोचते हैं की कुछ लिखें यह …

असफलता

नमस्कार, कैसे हैं ? हाँ हाँ आप तो बढ़िया ही होंगे। कभी हम से भी पूछ लीजिये की हम कैसे हैं ? चलिए आप तो पूछने से रहे, परन्तु हम तो बताएँगे। तो प्रभु बात ऐसी है की हाल तो बेहाल है।दरअसल हुआ यूँ के हम ने बहुत बड़ा और भव्य हवाई किला बना लिया था …