अमर प्रेम

नमस्कार, देखिये बोला था ना, पिछली बार आपको बताया था के हमारे जैसे स्फूर्तिवान युवक से ज्यादा अपेक्षा ना रखें। देखिये आज १२ दिन बाद नए साल की बधाइयाँ देने आया हूँ। आशा करता हूँ के यह नया साल आप सभी के लिए हर्ष और उल्लास से परिपूर्ण होगा। आज आप सभी से मुखातिब होने का एक …

बड़ा दिन

नमस्कार , भूले तो नहीं, माफ़ करियेगा, कुछ ज्यादा ही मसरूफ हो गए थे। मसरूफ भी क्या जनाब, मसरूफ होने का ढोंग कर रहे थे। बात ऐसी है की हम एक नंबर के आलसी है यह बात या तो हमे पता है या आपको। जाने कैसे यह बात हमारे ऑफिस वालो को पता चल गयी। …

मोह

मैं या मेरा, हम या हमारा क्या यही मोह है? ना सुनता किसी की, फिर भी माँ का दुलारा क्या यही मोह है? रोटी का भूखा, देता बच्चे को निवाला क्या यही मोह है? लौट आता घर, जिसको कहते आवारा क्या यही मोह है? और यदि यही मोह है, तो प्रभु यह मोह पाश नहीं …

मेघा रे मेघा

नमस्कार, सावन का स्वागत करने के लिए तैयार हैं ना। जानते हैं की आप बोलेंगे की अरे मियां यहाँ तो सूरज हमे रोज़ भून रहा है और आप सावन की बात कर रहे हैं। तो देखिये जनाब हम मान गए आप की बात परन्तु ऊपर वाला हम पर कुछ ज्यादा ही मेहरबान चल रहा है। …

सफरनामा

नमस्कार, कभी पैरों तले से जमीन खिसकी है? हाल ही में हमारे पैरों तले से जमीन गायब हो गयी और हम हवा में लटक गए।तो साहब हुआ कुछ यूँ की हमारे एक मित्र हैं जिनका नाम घुम्मक्कड़ों की दुनिया में बहुत शान से लिया जाता है। उन्होंने हमको एक दिन चने के झाड़ पे चढ़ा …

बदलाव

नमस्कार , और प्रभु कैसे हैं? उम्मीद है की सब कुशल मंगल होगा। अगर नहीं है तो चींटियों को आटा खिलाइये, क्या पता कृपा बरस जाये। कृपा कहा रुकी हुई है ये तो हम नहीं बता सकते हैं। परन्तु आपको इतना जरूर बता सकते है की निरंतर प्रयास करते रहिये, क्यों की और कुछ हम …

डिब्बी बंद खुशियां

नमस्कार, अंधे के हाथ बटेर लग जाना तो आप ने सुना ही होगा। या फिर खुदा मेहरबान तो गधा पहलवान ये वाला सुना होगा। यदि नहीं सुना है तो सुन लीजिये, क्यू की बस ऐसा ही कुछ हुआ हमारे साथ भी। बात कुछ ऐसी है के कुछ महीनो पूर्व हमने जोश जोश में एक सम्मलेन में भाग …

अलविदा

नमस्कार , घबराइये नहीं, मैं कही नहीं जा रहा। वो तो बस आज कुछ भावुक हो गया तो ऐसा शीर्षक डाल दिया। बात कुछ ऐसी है की बीते हुए सप्ताह में एक नहीं, दो नहीं बल्कि तीन प्यारे साथियों से बिछड़ गया। अब साहब करे भी तो क्या करें। बदलाव संसार का अटल सत्य है। …

५६ इंच की छाती

नमस्कार , कैसे है आप सभी ? अच्छे ही होंगे , और अगर नहीं हैं तो अच्छा बनने की कोशिश में होंगे।  दोनों ही स्तिथियों में आप को खुश रहना चाहिए , जैसे की आज मैं हूँ। आप पूछे उससे पहले मैं खुद ही बता देता हूँ। तो बात कुछ यूँ है के आज कुछ मित्रो ने …

मेरा bro!

नमस्कार, शीर्षक थोड़ा अटपटा है परन्तु कूल है। और यकीं मानिये जिस व्यक्ति के लिए लिखा है वो तो परम कूल हैं। आज हम आपके सामने अपने परम मित्र आदरणीय राहुल जी का वर्णन करेंगे। आज लगभग दस वर्ष होने जा रहे हैं हमे उनको जानते हुए और थोड़ा बहुत पहचानते हुए। दिमाग में उनका ख्याल …